--

Zulmi Sang Aankh Download–Madhumati Lata, Vyjayantimala| Old is Gold

Song: Zulmi Sang Aankh Ladi | Old is Gold
Movie: Madhumati (1958)
Singer: Lata Mangeshkar
Music: Salil Chowdhary
Cast: Dilip Kumar, Vyjayantimala, Tarun Bose, Johny Walker, Pran and Jayant.
Director: Bimal Roy

Zulmi Sang Aankh Ladi: Download

Enjoy this super hit song from OldisGold ‘Zulmi Sang Aankh Ladi’ from the movie Prince starring Dilip Kumar, Vyjayantimala, Tarun Bose, Johny Walker, Pran and Jayant. The vocal artist of this song is Lata Mangeshkar.

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Zulmi Sang Aankh Ladi.

DOWNLOAD HERE

Lyrics

Zulmi sag ankh ladi, zulmi sag ankh ladi re
Zulmi sag ankh ladi, zulmi sag ankh ladi re
Sakhi mai ka se kahun, ri sakhi ka se kahun
Jane kaise ye bat badhi
Zulmi sag ankh ladi, zulmi sag ankh ladi re

Vo chhup chhupake bansari bajaye
Vo chhup chhupake bansari bajaye re
Vo chhup chhupake bansari bajaye
Sunaye mujhe masti me duba hua rag re
Mohe taro ki chhanv me bulaye
Churaye meri nidiya, mai rah jaun jag re
Lage din chhota, rat badi
Zulmi sag ankh ladi, zulmi sag ankh ladi re
Zulmi sag ankh ladi, zulmi sag ankh ladi re
Sakhi mai ka se kahun, ri sakhi ka se kahun
Jane kaise ye bat badhi
Zulmi sag ankh ladi, zulmi sag ankh ladi re

Bato bato me rog badha jaye
Bato bato me rog badha jaye re
Bato bato me rog badha jaye
Hamara jiya tadape kisike liye sham se
Mera pagalapana to koi dekho
Pukarun mai chada ko sajan ke nam se
Phiri man pe jadu ki chhadi
Zulmi sag ankh ladi, zulmi sag ankh ladi re
Zulmi sag ankh ladi, zulmi sag ankh ladi re
Sakhi mai ka se kahun, ri sakhi ka se kahun
Jane kaise ye bat badhi
Zulmi sag ankh ladi, zulmi sag ankh ladi re

DOWNLOAD HERE

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Zulmi Sang Aankh Ladi.

Lyrics

ज़ुल्मी संग आँख लड़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे
(ज़ुल्मी संग आँख लड़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे)
सखी मैं का से कहूँ, री सखी का से कहूँ
जाने कैसे यह बात बढ़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे
(ज़ुल्मी संग आँख लड़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे)
वो छुप छुपके बांसरी बजाए
(वो छुप छुपके बांसरी बजाए रे)
वो छुप छुपके बांसरी बजाए
सुनाए मोहे मस्ती में डूबा हुआ राग रे
मोहे तारों की छाव में बुलाए
चुराए मेरी निंदिया मैं रह जाऊं जाग रे
लगे दिन छोटा रात बड़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे
ज़ुल्मी संग आँख लड़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे
सखी मैं का से कहूँ, री सखी का से कहूँ

जाने कैसे यह बात बढ़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे
(ज़ुल्मी संग आँख लड़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे)
बातों बातों में रोग बढ़ा जाए
(बातों बातों में रोग बढ़ा जाए रे)
बातों बातों में रोग बढ़ा जाए
हमारा जिया तड़पे किसिके लिए शाम से
मेरा पागलपना तो कोई देखो पुकारूँ मैं
चंदा को साजन के नाम से
फिरी मान पे जादू की छड़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे
(ज़ुल्मी संग आँख लड़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे)
सखी मैं का से कहूँ, री सखी का से कहूँ
जाने कैसे यह बात बढ़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे
(ज़ुल्मी संग आँख लड़ी, ज़ुल्मी संग आँख लड़ी रे)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *