Mere Piya Gaye | Patanga 1949 | Shamshad, C. Ramachandra| Old is Gold

Movie/album: Patanga
Singers: Ramchandra Narhar Chitalkar (C. Ramchandra), Shamshad Begum
Song Lyricists: Rajendra Krishan
Music Composer: Ramchandra Narhar Chitalkar (C. Ramchandra)
Music Director: Ramchandra Narhar Chitalkar (C. Ramchandra)
Music Label: Saregama
Starring: Nigar Sultana, Shyam, Ajit

Mere Piya Gaye Rangoon:  Download

Download & Enjoy this super hit song ‘Mere Piya Gaye Rangoon’ from the Patanga movie starring Nigar Sultana, Shyam, Ajit and composed and directed by C. Ramachandra and sung by C. Ramachandra, Shamshad Begum

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Mere Piya Gaye Rangoon

DOWNLOAD HERE

Mere Piya Gaye Rangoon

To Download the MP3 version of ‘Mere Piya Gaye Rangoon‘, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

Hello hindustan kaa dehradun
Hello mai rangun se bol raha hu
Mai apni biwi renukadevi se
Bat karna chahata hu han han

Mere piya, ho
Mere piya gaye rangun
Kiya hai vahan se telephone
Tumhari yaad satati hai
Tumhari yaad satati hai
Jiya me aag lagati hai
Mere piya gaye rangun
Kiya hai vahan se telephone
Tumhari yaad satati hai
Tumhari yaad satati hai
Jiya me aag lagati hai

Ham chhod ke hindustan
Bahut pachhtaye
Bahut pachhtaye
Ham chhod ke hindustan
Bahut pachhtaye
Bahut pachhtaye
Hui bhul jo tumako
Sath naa lekar aaye
Hui bhul jo tumako
Sath naa lekar aaye
Ham burma ki galiyo me
Aur tum ho dehradun
Tumhari yaad satati hai
Tumhari yaad satati hai
Jiya me aag lagati hai
Mere piya gaye rangun
Kiya hai vahan se telephone
Tumhari yaad satati hai
Tumhari yaad satati hai
Jiya me aag lagati hai

Meri bhukh pyas bhi
Kho gayi gham ke mare
Gham ke mare
Meri bhukh pyas bhi
Kho gayi gham ke mare
Gham ke mare
Mai adhmui si ho
Gai gham ke mare
Mai adhmui si ho
Gai gham ke mare
Tum bin sajan
Janvari farvari ban
Gaye mayi aur june
Tumhari yaad satati hai
Tumhari yaad satati hai
Jiya me aag lagati hai
Mere piya gaye rangun
Kiya hai vahan se telephone
Tumhari yaad satati hai
Tumhari yaad satati hai
Jiya me aag lagati hai

Aji tumse bichhadke ho
Gaye ham sanyasi
Ham sanyasi
Aji tumse bichhadke ho
Gaye ham sanyasi
Ham sanyasi
Kha lete hain jo mil
Jaye rukhi sukhi basi
Kha lete hain jo mil
Jaye rukhi sukhi basi
Aji lungi bandh ke karen
Gujara bhul gaye patlun
Tumhari yaad satati hai
Tumhari yaad satati hai
Jiya me aag lagati hai
Mere piya gaye rangun
Kiya hai vahan se telephone
Tumhari yaad satati hai
Tumhari yaad satati hai
Jiya me aag lagati hai.

DOWNLOAD HERE

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Mere Piya Gaye Rangoon

Mere Piya Gaye Rangoon

To Download the MP3 version of ‘Mere Piya Gaye Rangoon‘, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

हेलो हिंदुस्तान का देहरादून
हेलो मैं रंगून से बोल रहा हु
मैं अपनी बीवी रेणुकादेवी से
बात करना चाहता हूँ हाँ हाँ

मेरे पिया
मेरे पिया गये रंगून
किया है वहां से टेलीफोन
तुम्हारी याद सताती है
तुम्हारी याद सताती है
जिया में आग लगाती है
मेरे पिया गये रंगून
किया है वहां से टेलीफोन
तुम्हारी याद सताती है
तुम्हारी याद सताती है
जिया में आग लगाती है

हम छोड़ के हिंदुस्तान
बहुत पछताए
बहुत पछताए
हम छोड़ के हिंदुस्तान
बहुत पछताए
बहुत पछताए
हुई भूल जो तुमको
साथ ना लेकर आये
हुई भूल जो तुमको
साथ ना लेकर आये
हम बर्मा की गलियों में
और तुम हो देहरादुन
तुम्हारी याद सताती है
तुम्हारी याद सताती है
जिया में आग लगाती है
मेरे पिया गये रंगून
किया है वहां से टेलीफोन
तुम्हारी याद सताती है
तुम्हारी याद सताती है
जिया में आग लगाती है

मेरी भूख प्यास भी
खो गयी ग़म के मारे
ग़म के मारे
मेरी भूख प्यास भी
खो गयी ग़म के मारे
ग़म के मारे
मई अधमुए सी हो
गई ग़म के मारे
मई अधमुए सी हो
गई ग़म के मारे
तुम बिन साजन
जनवरी फ़रवरी बन
गए मई और जून
तुम्हारी याद सताती है
तुम्हारी याद सताती है
जिया में आग लगाती है
मेरे पिया गये रंगून
किया है वहां से टेलीफोन
तुम्हारी याद सताती है
तुम्हारी याद सताती है
जिया में आग लगाती है

ाजी तुमसे बिछड़के हो
गए हम सन्यासी
हम सन्यासी
ाजी तुमसे बिछड़के हो
गए हम सन्यासी
हम सन्यासी
खा लेते हैं जो मिल
जाये रुखी सुखी बसि
खा लेते हैं जो मिल
जाये रुखी सुखी बसि
ाजी लुंगी बाँध के करें
गुजरा भूल गए पतलून
तुम्हारी याद सताती है
तुम्हारी याद सताती है
जिया में आग लगाती है
मेरे पिया गये रंगून
किया है वहां से टेलीफोन
तुम्हारी याद सताती है
तुम्हारी याद सताती है
जिया में आग लगाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!