Jiska Mujhe | Don 1978 | Kishore, Lata | Zeenat, Amitabh | Old is Gold

Song: Jiska Mujhe Tha Intezar
Artist: Lata Mangeshkar & Kishore Kumar
Movie: Don
Music Director: Kalyanji Anandji
Lyricist: Anjaan
Film Star: Amitabh Bachan, Zeenat Aman, Pran, Helen

Jahan Teri Yeh Nazar Hai: Download

Download & Enjoy this super hit & Famous song of bollywood ‘Jiska Mujhe Tha Intezar‘ with Hindi & English Lyrics sung by Lata Mangeshkar & Kishore Kumar from the movie Don.

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Jiska Mujhe Tha Intezar.

DOWNLOAD HERE

Jiska Mujhe Tha Intezar

To Download the MP3 version of Jiska Mujhe Tha Intezar, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

Jiska mujhe tha intezar, Jiske liye dil tha beqarar
Woh ghadi aa gayi, aa gayi, Aaj pyar mein had se guzar jaana hai
Maar dena hai tujhko ya mar jaana hai

Jiska mujhe tha intezar, Jiske liye dil tha beqarar
Woh ghadi aa gayi, aa gayi, Aaj pyar mein had se guzar jaana hai
Maar dena hai tujhko ya mar jaana hai

Mujhpe jo guzri tu kya jaane, Tu kya samjhe oh deewane
Leke rahoongi badla tujhse, Aayi hoon dil ki aag bujhaane
Ho qatil meri nazron se bachke kahan jayega,
Qatil meri nazron se bachke kahan jayega
Diya hai jo mujhko wohi tu mujse payega

Woh ghadi aa gayi, aa gayi,
Teer banke jigar mein utar jaana hai
Maar dena hai tujhko ya mar jaana hai

पसंद आया ? अब आप जब चाहे इस गीत तो download करके सुन सकते है | आइये साथ में गाते और गुनगुनाते है Jahan Teri Yeh Nazar Hai.

DOWNLOAD HERE

To Download the MP3 version of ‘Jiska Mujhe Tha Intezar‘, click and select the ‘Save As’ option in your location to download this song.

Lyrics

जिसका मुझे था इंतज़ार, जिसके लिए दिल था बेक़रार
वो घड़ी आ गई, आ गई, आज प्यार में हद से गुज़र जाना है
मार देना है तुझको या मर जाना है

मुझपे क्या गुज़री तू क्या जाने, तू क्या समझे ओ दीवाने
ले के रहूँगी बदला तुझसे, आई हूँ दिल की आग बुझाने
ओ क़ातिल मेरी नज़रों से बच के कहाँ जाएगा, दिया है जो मुझको वही तू मुझसे पाएगा
वो घड़ी आ गई, आ गई, तीर बन के जिगर में उतर जाना है
मार देना है…

जादू तेरा किसपे चला, होगा किसी दिन ये फ़ैसला
वो घड़ी आएगी, आएगी, जानां तूने अभी ये कहाँ जाना है
किसे जीना है और किसको मर जाना है
वो घड़ी आएगी…

होगा तेरा आशिक़ ज़माना, औरों का दिल होगा तेरा निशाना
नाज़ न कर यूँ तीर-ए-नज़र पे, आए हमें भी तीर चलाना
जो है खिलाड़ी उन्हें खेल हम दिखाएँगे, अपने ही जाल में शिकारी फँस जाएँगे
वो घड़ी आएगी, आएगी, वक़्त आने पे तुझको ये समझाना है
किसे जीना है…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!