Ae Phoolon Ki Rani Baharon Ki Malika | Mohammed Rafi | Arzoo 1965 Songs | Sadhana, Rajendra Kumar – Old is Gold songs Download

अपनी आवाज के जरिए दिवंगत बॉलीवुड सिंगर मोहम्मद रफी आज भी हमारे दिल में बसते है। मोहम्मद रफी का जन्म 24 दिसंबर 1924 में अमृतसर के गांव कोटला सुल्तानपुर में हुआ था। बताया जाता है कि उनके गांव में एक सूफी फकीर आया करते थे, जो गीत गाते थे। इन्हीं सूफी फकीरों को सुनते-सुनते रफी को गाने की प्रेरणा मिली। रफी का बचपन लाहौर में बीता। लाहौर में एक कॉन्सर्ट में मशहूर सिंगर केएल सहगल आए हुए थे। इस कॉन्सर्ट की लाइट चली गई थी। जिसकी वजह से केएल सहगल ने गाने से मना कर दिया था। ऐसे में गुस्साई भीड़ को संभालने के लिए मोहम्मद रफी ने गाना गाया। रफी जितने अच्छे फनकार थे, उतने ही अच्छे इंसान भी थे।

आप भी सुनिए रफी साहब के सदाबहार गाना- ‘ए फूलो की रानी’

Song: Ae Phulon Ki Raani Bahaaron Ki Malikaa
Movie: Arzoo (1960)
Artist: Mohammed Rafi
Music Director: Jaikishan Dayabhai Panchal, Shankar Singh Raghuvanshi
Actor: Sadhana, Rajendra Kumar
Lyricist: Hasrat Jaipuri

Ae Phulon Ki Raani Bahaaron Ki Malikaa: Download

Download & Enjoy this super hit song ‘Ai Phulon Ki Raani Bahaaron Ki Malikaa‘ from the Movie Arzoo (1965) starring Sadhana, Rajendra Kumar and sung by Mohammed Rafi music by Jaikishan Dayabhai Panchal, Shankar Singh Raghuvanshi

WATCH HERE

Ae Phoolon Ki Rani Baharon Ki Malika | Mohammed Rafi | Arzoo 1965 Songs | Sadhana, Rajendra Kumar

Lyrics

ऐ फूलों की रानी बहारों की मलिका
तेरा मुस्कुराना गज़ब हो गया
न दिल होश में है न हम होश में हैं
नज़र का मिलाना गज़ब हो गया

तेरे होंठ क्या हैं गुलाबी कंवल हैं
ये दो पत्तियां प्यार की इक गज़ल हैं
वो नाज़ुक लबों से मुहब्बत की बातें
हमीं को सुनाना गज़ब हो गया

कभी खुल के मिलना कभी खुद झिझकना
कभी रास्तों पे बहकना मचलना
ये पलकों की चिलमन उठाकर गिराना
गिराकर उठाना गज़ब हो गया

फ़िज़ाओं में ठंडक घटा भर जवानी
तेरे गेसुओं की बड़ी मेहरबानी
हर इक पेंच में सैकड़ों मैकदे हैं
तेरा लड़खड़ाना गज़ब हो गया

WATCH HERE

Ae Phoolon Ki Rani Baharon Ki Malika | Mohammed Rafi | Arzoo 1965 Songs | Sadhana, Rajendra Kumar

Lyrics

Ai phulo ki rani baharo ki malika
Tera muskurana gajab ho gaya
Ai phulo ki rani baharo ki malika
Tera muskurana gajab ho gaya
Na dil hosh me hai na ham hosh me
Hai najar ka milana gajab ho gaya Tere hont kya hai gulabi kanwal hai
Ye do patiya pyar ki ik gazal hai
Woh najuk labo se mohobbat ki bate
Hami ko sunana gajab hogaya
Ai phulo ki rani baharo ki malika
Tera muskurana gajab ho gaya

Kabhi ghul ke milna kabhi khud jhijhakna
Kabhi rasto par behekna machalna
Ye palko ki chilman uthakar girana
Girakar uthana gazab ho gaya
Ai phulo ki rani baharo ki malika Tera muskurana gajab ho gaya
Fizaao me thadak ghataa bhar jawaani
Tere gesuo ki badi meharbani
Har ik pech me saikado maikade hai
Tera ladkhadana gazab ho gaya
Ai phulo ki rani baharo ki malika
Tera muskurana gajab ho gaya
Na dil hosh me hai na ham hosh me
Hai najar ka milana gajab ho gaya.

Leave a Reply

Your email address will not be published.